Razakar Movie: निजाम के जघन्य अत्याचारों की परत खोलेगी

Razakar Movie: पहले गृहमंत्री सरदार पटेल के हाथों में 562 रियासतें आई थी न! उन सभी को मिलाकर भारत का निर्माण किया गया। इन्हें कश्मीर से दूर रखा और जब बताया गया तो बहुत देर हो चुकी थी। समय रहते पटेल को कश्मीर सौंपा होता तो हालात अलग होते।ख़ैर।

वैसे सरदार पटेल को हैदराबादी निजाम ने खूब आँखें दिखाई और शामिल होने से इंकार कर दिया था और पाकिस्तान के इशारे पर चल रहा था। तब पूर्व गृहमंत्री ने सख्ती से कदम उठाया और हैदराबाद में सेना उतार दी। निजाम हिंदुओं को धर्म परिवर्तन करवा रहा था, जो तैयार न थे उन्हें मार दिया गया, महिलाओं के साथ बलात्कार किए गए। अर्थात् कश्मीर में जिस प्रकार पैटर्न लिया गया था, हैदराबाद में निजाम कर चुका था। 1948 में बड़ी मात्रा में हिंदुओं का नरसंहार किया गया।

Razakar Movie

निजाम ने निजी पैरामिलीटरी वालंटियर फ़ोर्स बनाई और रजाकार नाम दिया। निर्मम मुजाहिद्दीन थे। इनकी संख्या 2 लाख थी। इसी से भारतीय फौज ने युद्ध लड़ा। इस युद्ध में भारत की सेना ने 38 जवान खोये थे। सोचें, ये भारत के भीतर की स्थिति है, वर्तमान मंथरा वर्ग की सोच भी ऐसी ही है। 15 मार्च 2024 के दिन निर्देशक वाई सत्यनारायण की फिल्म ‘(Razakar Movie) रजाकार-द साइलेंट जेनोसाइड ऑफ़ हैदराबाद’ दर्शकों को निजाम के जघन्य अत्याचारों की परत खोलेगी।

Razakar Movie

साथ ही सोचने पर विवश करेगी कि गोरों का षड्यंत्र कितना घातक और खतरनाक था, भारत को टुकड़ों में बिखरने की पूर्ण साजिश थी। वे भारत को पहले पीएम में जिन्हें बैठाना चाहते थे सफल रहे, लेकिन देश भाग्यशाली रहा था कि गृहमंत्री सरदार बनें और वे देशभावना के तहत अपने राष्ट्र को एकत्र करने में कामयाब निकले। बाकी हालातों को समझना है तो घाटी के मंजर को पढ़े, सुने, देखें। इसकी कमान पूर्व पीएम ने अपने हाथ में रखी और देश के अंदर मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय बना दिया गया।

Bastar The Naxal Story तिरंगा फहराने की सजा में माओवादियों ने 32 टुकड़े कर दिये थे

Bollywood Update: बस्तर की नक्सल स्टोरी कमर्शियली बॉक्स ऑफिस पर लुढ़क गई?

आदित्य धर साइंस फिक्शन फिल्म The Immortal Ashwatthama बनाने जा रहे थे

Review: Swatantra Veer Savarkar

माला सिन्हा: हिंदी सिनेमा की चमकती रत्न

स्वतंत्रता वीर सावरकर रणदीप हूड़ा की ऐतिहासिक पेशकश को समझने के लिए इतना समझें

जब कोई अभिनेता किसी किरदार के लिए गहराई तक उतर जाए तो समझ लो

वाकई देश में बदलाव से दर्शक उन विषयों से परिचित हो रहे है जिन्हें कुछ मालूम न था, इसमें मैं भी शामिल हूँ। मुझे इतना पता था कि निज़ाम से युद्ध हुआ था। Razakar Movie का ट्रेलर देख कर देखने की तीव्र इच्छा हो रही है। ट्रेलर देखा तो सहम गया कि कैसे जुल्म किए गए, पहले गोरे थे बाद में निजाम का गुलाम बनाकर रखना चाहता था।

Leave a Comment