किलियन मर्फी से क्रिस्टोफर नोलन पूछते है कि ‘जे रॉबर्ट ओपनहाइमर के बारे में कितना जानते है

किलियन मर्फी से क्रिस्टोफर नोलन पूछते है कि ‘जे रॉबर्ट ओपनहाइमर के बारे में कितना जानते है’ मर्फी को ओपनहाइमर के बारे में सिर्फ इतना मालूम था कि वे परमाणु के जनक है और उन्होंने 45 ट्रिनिटी परीक्षण किया था। यकीनन दूर से इतना ही मालूम होता है। तो आयरिश अभिनेता किलियन को भी थोड़ी बेसिक जानकारी थी। लेकिन ओपनहाइमर के करीब जाओ, तब कई बिंदु उनके परिचय की डेप्ट दिखलाते है।

डिलेटेंट, अ वूमेनाइजर, अ सस्पेक्टेड कम्युनिस्ट, अन्स्टेबल, थिएट्रिकल, एगोटिस्टिकल, और न्यूरोटिक। मर्फी को अच्छे से मालूम था कि जिस किरदार से मिलने जा रहे है उस पर दुनिया की नजर टिकी होगी और उसके बारे में जानने के लिए लोग बेसब्र होंगे। तिस पर नोलन भी पहली बार ब्रितानी अभिनेता को टाइटल या कहे मुख्य किरदार सौंपा है। तो जिम्मेदारी अधिक बढ़ गई थी।

मर्फी बैसिक जानकारी के साथ ओपनहाइमर के लिए डेप्ट में उतरना एकदम नया और चुनौतीपूर्ण था, क्योंकि वे उस व्यक्ति से मिलने जा रहे थे जिसने कलयुगी दुनिया के हाथ विनाशकारी अस्त्र पकड़ा दिया था। जब ब्रितानी अभिनेता इन पॉइंट्स और अपने होम वर्क के साथ ओपनहाइमर से मिलने गहराई में उतरे तो इतना भीतर घुस बैठें। खुद को भुला दिये और ओपनहाइमर को याद रखा, कैसे सोचते, कैसे उठते-बैठते, बॉडी लैंग्वेज, डायलॉग डिलीवरी, कैसी रहती। दिमाग में ओपनहाइमर ही बसे हुए थे। जब शूटिंग के दौरान साथी कलाकार उन्हें डिनर के लिए बुलाते, लेकिन जा नहीं सकते थे। क्योंकि डिनर पर मर्फी को निमंत्रण था, किंतु तब मर्फी तो दूर दूर तक नहीं थे ओपनहाइमर थे।

Movierulz Wap

बिन बुलाए ओपनहाइमर कैसे जाये। आखिरकार ईगो वाला व्यक्तित्व था। कभी नहीं गये। अक्सर नोलन अपने कलाकारों को जिस प्रकार किरदार सौंपते है न उनमें से कोई न कोई कलाकार जल्दी लौटकर नहीं आता है और किरदार में खो जाता है। बाहर निकलने में महीनों बीत जाते है। ऐसा इसलिए होता है कि लेखक-निर्देशक की डिटेलिंग इनफार्मेशन और कलाकारों की खुद की तैयारी इतनी बेज़ोड़ हो जाती है। फिर तो किरदार कलाकार को छोड़ना नहीं चाहता है और कलाकार भी किरदार से दिल लगा बैठता है।

जिस प्रकार ओपनहाइमर ने पहला परमाणु परीक्षण ब्लास्ट किया था, किलियन मर्फी की धमाकेदार बारीकी तैयारी देख, ब्लास्ट हो चले थे। जब सेट पर आये तो ऐसा आये कि फिल्म 57 दिन में खत्म हो चली। नोलन की सबसे बेस्ट फिल्म कम समय में पूरी हो गई। मर्फी के को-स्टार सेट पर उनकी और ओपनहाइमर की केमिस्ट्री देखकर हैरान थे, मानो किलियन अपने वश में नहीं थे। रॉबर्ट ही रॉबर्ट थे।

Bollywood News: बॉलीवुड के हालातों पर गौर करें

Maharani Webserires: राजनीतिक संरक्षण में अपराध तो दिखाए है

जुगलबंदी बेहद ब्लास्ट थी और इसके परिणाम में कुछ बड़ा अवश्य निकलना था, नोलन के कंटेंट में पहली सोलो से मर्फी ने अकैडमी अवॉर्ड ऑफ़ मेरिट में पहले ही अटेंप्ट में गर्दा उड़ा दिया। मर्फी को ओपनहाइमर ने बेस्ट एक्टर ऑस्कर अवार्ड दिलवा दिया, साथ फिल्म ने 7 मेजर कैटेगरी में ऑस्कर अपने नाम कर लिए। बेस्ट पिक्चर, बेस्ट डायरेक्टर, बेस्ट एक्टर, बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर, बेस्ट सिनेमेटोग्राफी, बेस्ट बीजीएम। नोलन का सिग्नेचर स्टाइल सिनेमेटोग्राफ़ी में ही है वीएफएक्स व स्पेशल इफेक्ट्स का उपयोग न करके रियल फिल्मांकन करते है।

Leave a Comment